अपना भारतअपराधराजनीति

यूपी के मुजफ्फरनगर में विरोध प्रदर्शनों पर संपत्ति के नुकसान की भरपाई करने के लिए पैनल

मुजफ्फरनगर, उत्तर प्रदेश: मुजफ्फरनगर में 20 दिसंबर को नागरिकता (संशोधन) अधिनियम के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के दौरान सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान पहुंचाने के लिए जिम्मेदार लोगों की पहचान के लिए उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में जिला अधिकारियों ने अतिरिक्त जिला मजिस्ट्रेट के तहत एक पैनल का गठन किया है।
शनिवार को पीटीआई से बात करते हुए, पैनल प्रभारी अतिरिक्त जिला मउजिस्ट्रेट अमित सिंह ने कहा कि सार्वजनिक संपत्ति को नुकसान का आकलन करने के लिए और अधिनियम को लागू करने वाले व्यक्तियों पर जिम्मेदारी तय करने के लिए प्रक्रिया शुरू हो गई है।

उन्होंने कहा कि संपत्ति के नुकसान के 25 दावे (प्रतिनिधित्व) प्राप्त हुए हैं और नुकसान के लिए जिम्मेदार लोगों की पहचान करने के लिए पुलिस रिपोर्ट मांगी गई है।

रिपोर्ट मिलने के बाद, पहचान किए गए लोगों को नोटिस जारी किए जाएंगे, एडीएम ने कहा।उत्तर प्रदेश में जबरजस्ती लोगो को उठाया जा रहा है। और मुकदमा लगाया जा रहा है। की सरकारी सम्पति को नुक्सान पहुंचाया है। तो हर्जाना भी तुम लोगो को ही देना पड़ेगा। जो की गैर कानूनी है। पता नहीं सुप्रीम कोर्ट क्या कर रहा है। जो योगी को मर्जी का काम करे का मौका दे रहा है। और तो और पुलिस लोगो के घर में घुस रह है। और कह रही है की हम तुम्हे पकिस्तान भेजकर ही रहेंगे। और कहते है की पकिस्तान जाओ। जो की बिलकुल गलत है। और घर में थोड़ फोड़ कर रहे है। बिजनौर में से एक शादी के घर में से पुलिस ने लाखो के दुल्हन के लिए थे जेवरात को पुलिस ने ही लूट लिया है।

जिले में नागरिकता विरोधी अधिनियम के विरोध में अब तक 40 मामले दर्ज किए गए हैं और 73 लोगों को हिरासत में लिया गया है। साथ ही, पुलिस की विशेष जांच सेल ने हिंसा के मामलों की जांच शुरू कर दी है।

उस  पुलिस तो बिलकुल दरिंदगी दिखा रही है जो लोग शांति से से रह रहे है उस पर भी लाठी बरसा रही है। सड़क पर चलने वालो को भी पुलिस जेल में ले जा रही है। और यते सब योगी के इशारो पर हो रहा है। जो की मुसलमानो से बदला ले रहा है। योगी तो मुस्लिम लोगो से हमेसा से ही चिढ़ता आया है। नहीं तो 2007 के गोरखपुर दंगे में योगी का भी नाम था। सड़को पर बसे जलाई और करोडो की संपत्ति को नुक्सान पहुंचाया। जब इसने क्यों नहीं दिया। नुक्सान का हर्जाना। बस मुसलमानो से ही ये नुक्सान का हर्जाना लेगा। जो की गैर कानूनी है। खुद योगी पर 50 से भी ज्यादा आरोप लगे हुए है। उनका हर्जाना क्यों नहीं दे रहा है। बस मुसलमानो से ही लेगा ये योगी।

एहतियात के तौर पर मुजफ्फरनगर समेत कई यूपी के जिलों में शुक्रवार को करीब एक हफ्ते बाद फिर से शुरू की गईं इंटरनेट सेवाएं फिर से शुरू कर दी गईं। आए दिन राज्य में किसी भी अप्रिय घटना की कोई खबर नहीं थी।

Tags

Awaaz Bharat

Awaaz Bharat is your news, entertainment, music fashion website. We provide you with the latest breaking news and videos straight from the entertainment industry.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Back to top button
Close